Search Any Story

Showing posts with label AkbarBirbal. Show all posts
Showing posts with label AkbarBirbal. Show all posts

कौओं की गिनती | अकबर-बीरबल

एक बार पड़ोसी राज्य से एक बहुत प्रसिद्ध विद्वान बादशाह अकबर के दरबार में घूमने को आया। वह अकबर के सामने आकर अभिवादन के लिए झुका और कहा, "जहांपनाह! मैंने बीरबल की बुद्धि के बारे में बहुत सुना है। दूरदराज क्षेत्रों के लोग अक्सर इनकी बुद्धि की बहुत प्रशंसा करते हैं। महाराज अगर आप की आज्ञा हो तो मैं उनकी प्रतिभा की परीक्षा लेना चाहता हूं।"

When Akbar Dismissed Birbal From the Kingdom | Akbar-Birbal

This is the story of great king Akbar and his wise minister Birbal. Once upon a time, king Emperor Akbar became very angry on something at his favorite minister Birbal. Without thinking too much in a rage he asked Birbal to leave the kingdom and go away. Birbal without speaking a single word accepted the order of King and left the kingdom. He went to an unknown village far from the palace and started working on a farmer’s farm under a different identity.

AkbarBirbalStories_PotOfWit


अशुभ चेहरा | अकबर-बीरबल

बहुत समय पहले, बादशाह अकबर के राज्य में यूसुफ नामक एक युवक रहता था। उसका कोई दोस्त नहीं था, सभी लोग उससे नफरत करते थे। सभी उसका मजाक उड़ाते थे और जब वह सड़क पर चलता तो सब उस पर पत्थर फेंकते थे। यूसुफ का जीवन दयनीय था, सभी सोचते थे कि वह बहुत ही बदनसीब है। लोग तो यहां तक कहते थे कि यूसुफ के चेहरे पर एक नजर डालने से, देखने वाले व्यक्ति पर भी बदनसीबी आ सकती है।

How a Rich Man tested Birbal | Akbar-Birbal

Once there was a rich man in the city of King Akbar. He had heard about Birbal's intelligence but he never met him personally. He took permission of King Akbar and invited Birbal for a dinner.

Birbal reached the man's home. To his surprise, he was not alone. There were many people who were there at the dinner party. Finally, Birbal met the rich man.

AkbarBirbalStories_kwstorytime

बीरबल की जन्नत की यात्रा | अकबर-बीरबल

बीरबल की प्रशंसा से जलकर कुछ दरबारियों ने एक योजना बनायी कि कैसे वह बीरबल को अपने रास्ते से निकाल दें। उन्होंने अपनी योजना में राजा अकबर के हज्जाम को भी शामिल कर लिया।

akbarbirbalstories_kwstorytime

पूनम या दूज का चाँद | अकबर-बीरबल

बीरबल बहुत चतुर, बुद्धिमान और हाजिर जवाब थे, उनकी तारीफे दूर देशों तक फैली हुई थी। इरान के बादशाह ने जब उनकी बुद्धिमानी की तारीफ सुनी तो उसने राजा के पास संदेश भिजवाया की वह बीरबल को कुछ दिन के लिए मेरे दरबार में भेजने की कृपा करे। राजा ने बहुत कीमती वस्त्र आभूषणों की भेंट के साथ बीरबल और उनके सभा के कुछ अन्य दरबारियों को इरान के लिए रवाना किया।

AkbarBirbalHindiStories_BestShortStories

Spend the Gold Coins | Akbar Birbal

Akbar always admired Birbal for his intelligence and wisdom. However, Akbar's brother in law was always jealous of Birbal. His motive was to throw Birbal out of the empire.
One day he told Akbar that I am more efficient and capable than Birbal. Birbal was also listening to all this. He resigned and left the darbar.

HundredGoldCoins_AkbarBirbal
.

लेन देन प्रक्रिया | अकबर-बीरबल

एक बार की बात है। बादशाह अकबर अपने दरबारियों के साथ सभा में बैठे हुए थे। आज कोई भी फरियादी नहीं था, इसलिए उन्होंने सोचा कि क्यों ना मैं दरबारियों से कोई प्रश्न पूछूं।

बादशाह अकबर ने दरबारियों से पूछा, "मैंने हमेशा देखा है कि जब भी हम किसी को कुछ देते हैं तो, देने वाले का हाथ, हमेशा लेने वाले हाथ के ऊपर होता है।"

AkbarBirbalShortHindiStories_kwstorytime

Birbal’s Wisdom | Akbar Birbal

It was a beautiful afternoon in the court of Akbar Birbal. Suddenly Akbar realized that the diamond ring from his hand is missing. This was a gift to Akbar from his father.

Birbal arrived in the court soon. Akbar discussed with Birbal the same thing and asked him the solution to find his ring. After a quick careful thought, Birbal said, "Do not worry my lord! I will find your ring right now."

AkbarBirbalStories_Kwstorytime

आंखों वाले अंधे | अकबर-बीरबल

एक बार राजा अकबर ने अपनी राज्य सभा के सभी दरबारियों से पूछा - "हमारे राज्य में आंख वाले अधिक हैं या अंधे, इनमें से किस की संख्या अधिक है?"
सभी दरबारी चिंतित थे। वह एक दूसरे से पूछने लगे, "दोनों में से कौन ज्यादा है यह कैसे बताएं?"

AnkhWaleAndhe_AkbarBirbalStories

How many Crows in the Kingdom | Akbar Birbal

It was a beautiful morning time on the day of summer. King Akbar and Birbal were taking a walk in the palace of gardens and were admiring the natural beauty. There were also a lot of crows in the garden. Watching the crows one question popped up in Akbar's head. He asked Birbal, "how many crows are there in our Kingdom ?"

AkbarBirbalCrowsKingdom_KWStoryTime

कैसे ढूंढा बीरबल ने अंगूठी के चोर को? | अकबर-बीरबल

एक दिन भरे दरबार में राजा अकबर की अंगूठी खो गई। जैसे ही राजा को यह बात पता चली उन्होंने सिपाहियों से ढूँढने को कहा पर उन्हें उनकी अंगूठी नहीं मिली।

राजा अकबर नें बीरबल को दुखी मन से बताया कि वह अंगूठी उनके पिता की अमानत थी, जिससे वह बहुत ही प्यार करते थे। बीरबल नें जवाब में कहा - "आप चिंता ना करें महाराज, मैं अंगूठी ढून्ढ लूँगा।"

BestHindiStories_KWStoryTimes

बीरबल की खिचड़ी | अकबर-बीरबल

अकबर ने कडकड़ाती सर्दियों के मौसम में एक दिन यह ऐलान किया की अगर कोई व्यक्ति पूरी रात भर पानी के अंदर छाती तक डूब कर खड़ा रह पाएगा तो उसे 1000 मोहरों का इनाम दिया जाएगा। इस चुनौती को पार करना काफी कठिन था।

AkbarBirbal_KwStorytime

रेत और चीनी | अकबर-बीरबल

बादशाह अकबर के दरबार की कार्यवाही चल रही थे, तभी एक दरबारी हाथ में शीशे का एक मर्तबान लिए वहां आया।

बादशाह ने पूछा, “क्या है इस मर्तबान में?”

दरबारी बोला, “इसमें रेत और चीनी का मिश्रण है।”

AkbarBirbalStoriesInHindi

The Wicked Barber’s Plight | Akbar Birbal

Birbal was always the favorite of Akbar and that was one of the reasons why some group of ministers in Emperor Akbar's court was a little jealous of Birbal. They always look out for a chance to get rid of him.

One day the ministers approached the King's Barber with a plan to permanently get rid of Birbal. The wicked Barber also agreed in return for the huge amount of money.

मोम का शेर | अकबर-बीरबल

पुराने समय में बादशाह एक दूसरे की बुद्धि की परीक्षा लिया करते थे। उस समय बादशाह अकबर और बीरबल के किस्से बहुत ही मशहूर थे। अक्सर लोग अकबर और बीरबल को चुनौतियां दिया करते थे और कई राज्य के राजा, अकबर और बीरबल की प्रशंसा से जलते भी थे।

KWStoryTime_AkbarBirbalHindiStories

How Birbal caught the Thief | Akbar Birbal

Today's story is one of the popular stories of Akbar Birbal Collection. It all starts when a rich merchant is robbed. His all jewels and cash money is gone. Merchant had a lot of servants at home and his suspicion was on one of them.
In hopes of catching the thief and getting his jewels and money back, he went to Akbar's courtroom. After listening to his story Akbar asked Birbal to investigate this further. 


KWStoryTime_HowBirbalCaughtTheThief

एक पेड़ दो मालिक | अकबर-बीरबल

अकबर बादशाह दरबार लगा कर बैठे थे। तभी राघव और केशव नाम के दो व्यक्ति अपने घर के पास स्थित आम के पेड़ का मामला ले कर आए। दोनों व्यक्तियों का कहना था कि वे ही आम के पेड़ के असल मालिक हैं और दुसरा व्यक्ति झूठ बोल रहा है। चूँकि आम का पेड़ फलों से लदा होता है, इसलिए दोनों में से कोई उसपर से अपना दावा नहीं हटाना चाहता।

KWStoryTimes_AkbarBirbalStories

कुएँ के पानी का न्याय | अकबर-बीरबल

एक समय की बात है, बादशाह अकबर अपने दरबार में दरबारियों के साथ बैठे हुए थे। तभी दरबार में एक किसान और उसका पड़ोसी पहुंचे। किसान इंसाफ की गुहार लगा रहा था।
बादशाह अकबर ने किसान से पूछा कि आखिर क्या तकलीफ है, क्यों वहां इतना परेशान है।


अकबर के सपने का अर्थ | अकबर-बीरबल

एक बार बादशाह अकबर को सपना आया की उनके एक दाँत को छोड़ कर सभी दाँत टूट गये। अगली ही सुबह उन्होने राज्ये के सभी ज्योतिषियों को सपने का अर्थ जानने के लिए सभा मे बुला लिया।

सभी ज्योतिषियों को अकबर ने अपना सपना सुनाया और उनसे अपने सपने का मतलब पूछा। एक लंबे विचार विमर्श के बाद ज्योतिषियों ने बताया कि "बादशाह के सभी रिश्तेदार उनसे पहले मर जाएंगे।"

KWStoryTime_AkbarKeSapneKaEarth