Search Any Story

Showing posts with label PopularTales. Show all posts
Showing posts with label PopularTales. Show all posts

कौओं की गिनती | अकबर-बीरबल

एक बार पड़ोसी राज्य से एक बहुत प्रसिद्ध विद्वान बादशाह अकबर के दरबार में घूमने को आया। वह अकबर के सामने आकर अभिवादन के लिए झुका और कहा, "जहांपनाह! मैंने बीरबल की बुद्धि के बारे में बहुत सुना है। दूरदराज क्षेत्रों के लोग अक्सर इनकी बुद्धि की बहुत प्रशंसा करते हैं। महाराज अगर आप की आज्ञा हो तो मैं उनकी प्रतिभा की परीक्षा लेना चाहता हूं।"

तेनालीराम की मनपसन्द मिठाई | तेनालीराम

एक बार महाराज, राजपुरोहित और तेनालीराम राज उद्यान में टहल रहे थे कि महाराज बोले, "ऐसी सर्दी में तो खूब खाओ और सेहत बनाओ। वैसे भी इस बार कड़के की ठण्ड पड़ रही हैं। ऐसे में तो मिठाई खाने का मज़ा ही कुछ और हैं।"

The Thief and the Brahmins | Panchatantra Story

This is a story about 4 Brahmins and another Thief who is also a Brahmin, from Panchatantra Collection.
One day those four Brahmins arrived in a town from a far-off place, to sell some crafts. They had a successful business and earned a handful of money. This is the same town where the Thief also lived. The thief got to know about the Brahmins and he started watching the brahmins making money. Soon he thought of a plan for stealing this money.

The Thief and the Brahmins | Panchatantra Story

मूर्ख बातूनी कछुआ | पंचतंत्र

एक तालाब में एक कछुआ रहता था। उसी तालाब में दो हंस भी तैरने आया करते थे। हंस बहुत हंसमुख और मिलनसार स्वभाव के थे, इसलिए कछुए और हंस में दोस्ती होते देर नहीं लगी। कुछ ही दिनों में वे बहुत अच्छे दोस्त बन गएं। हंसों को कछुए का धीरे-धीरे चलना और उसका भोलापन बहुत अच्छा लगता था।

When Akbar Dismissed Birbal From the Kingdom | Akbar-Birbal

This is the story of great king Akbar and his wise minister Birbal. Once upon a time, king Emperor Akbar became very angry on something at his favorite minister Birbal. Without thinking too much in a rage he asked Birbal to leave the kingdom and go away. Birbal without speaking a single word accepted the order of King and left the kingdom. He went to an unknown village far from the palace and started working on a farmer’s farm under a different identity.

AkbarBirbalStories_PotOfWit


माँ-बेटी के बच्चों में क्या रिश्ता हुआ? | विक्रम-बैताल

किसी नगर में मांडलिक नाम का राजा राज करता था। उसकी पत्नी का नाम चडवती था। वह मालव देश के राजा की लड़की थी। उसके लावण्यवती नाम की एक कन्या थी। जब वह विवाह के योग्य हुई तो राजा के भाई-बन्धुओं ने उसका राज्य छीन लिया और उसे देश-निकाला दे दिया। राजा; रानी और कन्या को साथ लेकर मालव देश को चल दिया। रात को वे एक वन में ठहरे। पहले दिन चलकर भीलों की नगरी में पहुँचे। राजा ने रानी और बेटी से कहा कि तुम लोग वन में छिप जाओ, नहीं तो भील तुम्हें परेशान करेंगे। वे दोनों वन में चली गयीं। इसके बाद भीलों ने राजा पर हमला किया। राजा ने मुकाबला किया, पर अन्त में वह मारा गया। भील चले गये।

Who is more Noble? The King or the Minister | Vikram Betal

It was another gloomy night where King Vikram And Betal was going. Betal started telling the story to Vikram.

Once upon a time, there was a ruler of the Kingdom of Magadha. One day he went hunting in the forest and lost his way. Instead of coming out, he kept going deeper and deeper into the forest. Suddenly he heard a rustling sound nearby.

BestStoriesToRead_VikramBetal

मटके में तेनालीराम | तेनालीराम

एक बार महाराज कृष्णदेव राय तेनालीराम से इतने नाराज़ हो गए कि उन्होंने उसे अपनी शक्ल न दिखाने का आदेश दे दिया और कहा, "अगर उसने उनके हुक्म की अवहेलना की तो उसे कोड़े लगायें जाएंगे।"
महाराज उस समय बहुत क्रोधित थे इसलिए तेनालीराम ने वहाँ से जाना ही उचित समझा।

Who is right Frog or Two Fishes? | Panchatantra Story

Two large fishes, Sahasrabuddhi and Satabuddhi lived in a big pond and were close friends with a frog called Ekabuddhi. They spent a lot of time together on the bank of the pond.

One evening, as they were assembled on the bank of the pond, they saw a few fishermen approaching. They had nets and big baskets with them, which were full of fishes that they had caught.

While passing by the pond, they noticed that the pond was full of fishes. One of them said to the others, "Let us come here tomorrow morning. This pond is not very deep and is full of fishes. We have never caught fishes in this pond."


BestPanchatantraStories_Kwstorytime

BestPanchatantraStories_Kwstorytime

अशुभ चेहरा | अकबर-बीरबल

बहुत समय पहले, बादशाह अकबर के राज्य में यूसुफ नामक एक युवक रहता था। उसका कोई दोस्त नहीं था, सभी लोग उससे नफरत करते थे। सभी उसका मजाक उड़ाते थे और जब वह सड़क पर चलता तो सब उस पर पत्थर फेंकते थे। यूसुफ का जीवन दयनीय था, सभी सोचते थे कि वह बहुत ही बदनसीब है। लोग तो यहां तक कहते थे कि यूसुफ के चेहरे पर एक नजर डालने से, देखने वाले व्यक्ति पर भी बदनसीबी आ सकती है।

विद्या क्यों नष्ट हो गयी? | विक्रम-बैताल

उज्जैन नगरी में महासेन नाम का राजा राज करता था। उसके राज्य में वासुदेव शर्मा नाम का एक ब्राह्मण रहता था, जिसके गुणाकर नाम का बेटा था। गुणाकर बड़ा जुआरी था। वह अपने पिता का सारा धन जुए में हार गया। ब्राह्मण ने उसे घर से निकाल दिया। वह दूसरे नगर में पहुँचा। वहाँ उसे एक योगी मिला। उसे हैरान देखकर उसने कारण पूछा तो उसने सब बता दिया। योगी ने कहा, "लो, पहले कुछ खा लो।" गुणाकर ने जवाब दिया, "मैं ब्राह्मण का बेटा हूँ। आपकी भिक्षा कैसे खा सकता हूँ?"

Tenali Raman & The Horse Racing Competition| Tenali Raman Story

One time King Krishnadeveraya's ministers had bought some horses from outside. The horses were not like any other ordinary horses. They were from Arab. From the time horses came, the ministers kept on praising the horses. However, Tenali Raman didn't agree on this. He mentioned that the horses which Vijayanagar has are far more superior to these Arabian horses. The ministers didn't like his statement & challenged Raman to prove this point in a horse race.

The horse race day was decided. All the courtiers put in much effort to train their horses. They fed the horses well to make sure they were strong and sturdy.

BestEnglishStoriesTenaliRaman_HorseRacingCompetition

दूध न पीने वाली बिल्ली | तेनालीराम

आज हम आप लोगों को तेनाली रमन की एक और प्रसिद्ध कहानी बताने जा रहे हैं। कहानी इस प्रकार है!

एक बार महाराज कृष्णदेव राय ने सुना कि उनके नगर में चूहों ने आतंक फैला रखा है। चूहों से छुटकारा पाने के लिए महाराज ने एक हजार बिल्लियां पालने का निर्णय लिया। महाराज का आदेश होते ही एक हजार बिल्लियां मंगवाई गयी। उन बिल्लियों को नगर के लोगों में बांटा जाना था। जिसे बिल्ली दी गयी उसे साथ में एक गाय भी दी गयी ताकि उसका दूध पिलाकर बिल्ली को पाला जा सके।

How a Rich Man tested Birbal | Akbar-Birbal

Once there was a rich man in the city of King Akbar. He had heard about Birbal's intelligence but he never met him personally. He took permission of King Akbar and invited Birbal for a dinner.

Birbal reached the man's home. To his surprise, he was not alone. There were many people who were there at the dinner party. Finally, Birbal met the rich man.

AkbarBirbalStories_kwstorytime

चतुर खरगोश और शेर | पंचतंत्र

बहुत समय पहले, एक घने जंगल में एक बहुत बड़ा शेर रहता था। वह रोज शिकार पर निकलता और हर दिन जानवरों का शिकार करता। जंगल के जानवर डरने लगे कि अगर शेर इसी तरह शिकार करता रहा तो एक दिन ऐसा आयेगा कि जंगल में कोई भी जानवर नहीं बचेगा। पूरे जंगल में शेर का डर बैठ गया। शेर को रोकने के लिये कोई न कोई उपाय करना ज़रूरी था।

चतुर खरगोश और शेर | पंचतंत्र


क्या चोरी की गयी चीज़ पर चोर का अधिकार होता है? | विक्रम-बेताल

नेपाल देश में शिवपुरी नामक नगर मे यशकेतु नामक राजा राज करता था। उसकी चन्द्रप्रभा नाम की रानी और शशिप्रभा नाम की लड़की थी।

VikramBetalHindiStories_kwstorytime

बीरबल की जन्नत की यात्रा | अकबर-बीरबल

बीरबल की प्रशंसा से जलकर कुछ दरबारियों ने एक योजना बनायी कि कैसे वह बीरबल को अपने रास्ते से निकाल दें। उन्होंने अपनी योजना में राजा अकबर के हज्जाम को भी शामिल कर लिया।

akbarbirbalstories_kwstorytime

गौरैया चिड़िया और चार बंदर | पंचतंत्र

एक जंगल में एक पेड़ पर गौरैया का घोंसला था। एक दिन कड़ाके की ठंड पड़ रही थी। ठंड से कांपते हुए चार बंदरो ने उसी पेड़ के नीचे आश्रय लिया। वह चारों बंदर मूर्ख थे पर अपने आप को विद्वान समझते थे।

एक बंदर बोला "कहीं से आग तापने को मिले तो ठंड दूर हो सकती हैं।"
दूसरे बंदर ने सुझाया "देखो, यहां कितनी सूखी पत्तियां गिरी पड़ी हैं। इन्हें इकट्ठा कर हम ढेर लगाते हैं और फिर उसे सुलगाने का उपाय सोचते हैं।"

PanchatantraHindiStories_Kwstorytime

How Tenali Raman Saved Himself | Tenali Raman

One time Tenali Raman went to KrishnaDevaRaya, the king of Vijayanagar. He thought he will receive some gifts from the king. Instead the king got angry with him because he came without appointment.

The King ordered the two guards to cut off Raman's head with a single stroke from their swords.The guards were always against Raman and wanted to take revenge from him. Hearing this they were very excited.

They took him to the river front and tied him to a tree. Then they started sharpening their swords. As one of the guard was about to cut off Raman's head, Raman shouted, "Wait! The King's order was to execute me by both of you together."

TenaliRamanBestStories_Kwstorytime

पत्नी किसकी? | विक्रम-बेताल

धर्मपुर नाम की एक नगरी थी। उसमें धर्मशील नाम का राजा राज करता था। राजा का अन्धक नाम का दीवान था। एक दिन दीवान ने कहा, "महाराज, एक मन्दिर बनवाकर देवी को बिठाकर पूजा की जाए तो बड़ा पुण्य मिलेगा।"

राजा ने ऐसा ही किया। एक दिन देवी ने प्रसन्न होकर उससे वर माँगने को कहा। राजा के कोई सन्तान नहीं थी। उसने देवी से पुत्र माँगा। देवी बोली, "अच्छी बात है, तुम्हें बड़ा प्रतापी पुत्र प्राप्त होगा।"
कुछ दिन बाद राजा के एक लड़का हुआ। सारे नगर में बड़ी खुशी मनायी गयी।

PatniKiskiVikramBetalStory_HindiStories